Website Designing

वेब डिजाइनिंग- सफलता के सिद्धांत

वेब डिजाइनिंग- सफलता के सिद्धांत

किसी भी बिज़नेस को समय के साथ बदलना आवश्यक होता है अन्यथा वो अतीत के पन्नों में कहीं गुम हो जाता है. आज की तारीख में अगर कोई अपना बिज़नेस इन्टरनेट के माध्यम से प्रचारित नहीं कर रहा है तो वो सफलता के दौड़ में पीछे छूट जाता है. इन्टरनेट जनता तक पहुचने का सबसे आसान और सस्ता तरीका है. इसके लिए जरूरत है एक अच्छी सी वेबसाइट और उसे इन्टरनेट पर ज्यादा से ज्यादा लोगों तक पहुचाने की.

वेबसाइट ऑनलाइन मार्केटिंग का मूल तत्व है, इसलिए वेबसाइट का आकर्षक और आसानी से समझ आने वाली होनी चाहिए. किसी भी वेबसाइट को डिज़ाइन करते समय निम्न बातों का ध्यान अवश्य रखना चाहिए.

उपभोगता के अनुसार सोचें:

जब कभी भी कोई वेबसाइट डिज़ाइन की जाते है सबसे पहले ये बात ध्यान में रखनी चाहिए कि उपभोगता को तकनीक की जानकारी हो यह जरूरी नहीं, अतः डिज़ाइन करते समय सभी पहलुओं को उपभोगता की नजर से देखना चाहिए कि वो आपकी वेबसाइट में क्या देखना चाहेगा.
वेबसाइट को लेकर एक बात जो हमेशा ही सही होती है वो ये कि कोई भी कभी पूरी वेबसाइट को पहली ही नजर में बारीकी से नहीं देखेगा, वो एक सरसरी निगाह से वेबसाइट को स्कैन करता है अगर उसे उसमे कुछ अच्छा लगा तो ही वो वेबसाइट पर आगे जाता है.
वेबसाइट डिज़ाइन करते समय उसे ऐसा बनाना चाहिए कि वो पहली नजर में ही समझ आये और उसे सझने में ज्यादा समय न लगना पड़े. वेबसाइट ऐसी हो जिसमे काम के मुख्य बिंदु पहली नजर में ही नजर आने चाहिए.

 आप सोचिये ना कि उपभोगता:

एक अच्छी वेबसाइट डिज़ाइन के लिए आवश्यक है कि आप सोचे उपभोगता की तरह ना कि उपभोगता से ये उम्मीद करें कि वो आपकी तरह सोचेगा.
वेबसाइट को ऐसे डिज़ाइन करें कि किस पेज से कहां जाना है, और कौन सी बटन किस पेज पर ले जायेगे सब आसानी से समझ आना चाहिए ये सब थोडा भी भ्रमात्मक हुआ तो कोई भी वेबसाइट पर वापस आना नहीं चाहेगा.
वेबसाइट का रंग संयोजन, पार्श्‍व संगीत, ग्राफ़िक इत्यादि ऐसे होने चाहिए जो कि वेबसाइट के उद्देश्य को समझाने में मदद करें ना कि लोगों को भ्रम की स्थिति में डालें.

जहां एक और समुचित रूप से व्यवस्थित और सुचारू वेबसाइट आपके वेबसाइट बनाने के उद्देश्य को सफल बना सकती हैं वहीं एक अव्यवस्थित वेबसाइट मार्केट में आपकी नकारात्मक छवि बना सकती है.

Leave a Comment